रिश्वत



हर न्यूज़ चैनल पर अन्ना हजारे के अनशन की खबर थी. पूरा देश आंदोलित हो उठा था नेहा ने घडी पर नज़र डाली .११ बज गए विवेक अभी तक नहीं लौटे .बच्चे खाना खा कर सो गए .नेहा ने टी. वी बंद कर दिया और अखबार खोल कर बैठ गयी .अखबार में भी वही खबरें .एक बुजुर्ग का यूं आवाज़ उठाना ..वह अभिभूत हो उठी .सच है आवाज़ तो उठानी ही होगी .
नेहा के मन में कुछ कुलबुला गया .आज विवेक से बात करूंगी .ये रोज़ रोज़ ऑफिस के बाद यार -दोस्तों के साथ बैठना ,खाना -पीना और देर से घर आना,बच्चों से तो मिलना ही नहीं होता.घर के लिए भी तो उनकी जवाबदारियाँ है .
विवेक के आने पर वह चुप ही थी ,पर मन में विचार उबल रहे थे .उसकी चुप्पी को भांपते ,बिस्तर पर बैठते विवेक ने उसके हाथ पर दस हजार रुपये रखे और कहा -तुम बहुत दिनों से शोपिंग पर जाने का कह रही थीं न.ऐसा करो कल सन्डे है तुम बच्चों को लेकर चली जाओ ,में छोड़ दूंगा मॉल में .तुम कहो तो में भी चलूँ ,पर तुम्हे पता है में बोर हो जाता हूँ.२-३ घंटे सो लूँगा में तब तक. और हाँ अपने लिए दो -तीन बढ़िया साड़ियाँ ले लेना .पैसों की चिंता मत करना और लगे तो में दे दूंगा .
और नेहा बिना कुछ कहे भाव-विभोर हो कर विवेक के आगोश में समा गयी.

नईदुनिया( इन्दोर) नायिका में २५ मई २०११ को प्रकाशित .

Comments

  1. बहुत सटीक प्रस्तुति...जब तक अपने अंतर्मन में ईमानदारी की आवाज़ पैदा नहीं होगी, तब तक केवल भ्रष्टाचार को सोच कर भावुक होने या कोसने से कुछ नहीं होगा..बहुत सार्थक और सुन्दर लघुकथा..

    ReplyDelete
  2. रोज़ ऑफिस के बाद यार -दोस्तों के साथ बैठना ,खाना -पीना और देर से घर आना,बच्चों से तो मिलना ही नहीं होता.घर के लिए भी तो उनकी जवाबदारियाँ है। लेकिन शापिंग से बढकर कुछ नही महिलाओं के लिए .. हाहाहहाहहाहाहाहा

    ReplyDelete
  3. बडा कडवा सत्य प्रस्तुत किया है।

    ReplyDelete
  4. ये बीमारी घर-घर की कहानी बन गयी है...कोई ये नहीं पूछता की...पिसे आय कहाँ से...अच्छी कहानी...

    ReplyDelete
  5. bitter truth.... commonest of all.

    ReplyDelete
  6. लक्ष्मी जी के आते ही सब इंतज़ार ऐसे ही काफूर हो जाते है ! कवीताजी अच्छी चुनाव एवंग पोस्ट

    ReplyDelete
  7. सटीक! एकदम सटीक!
    और यह हर घर, हर भारतीय की कहानी है...

    ReplyDelete
  8. बहुत सार्थक और सुन्दर लघुकथा| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  9. फिर बताओ भ्रष्टाचार कैसे दूर हो ? सटीक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. भ्रष्टाचार यानि भ्रष्ट + आचार कितना स्वादिष्ट ?अब बेचारा अन्ना क्या करे ? सार्थक पोस्ट , आभार

    ReplyDelete
  11. वर्तमान का यही सच है.

    ReplyDelete
  12. चोरो से सावधान

    ReplyDelete
  13. चोरो से सावधान

    ReplyDelete
  14. चोरी की खबर मिली, तो देखने आये हैं...

    ReplyDelete
  15. @ Kasu kahun.
    @ श्री ललित शर्मा सा.,
    @ Shri Arunesh C. Dzwe
    @ सूश्री रश्मि प्रभाजी
    आपका यह आरोप शब्दशः सही है कि जिन्दगी के रंग ब्लाग पर प्रसारित प्रसंग रिश्वत का दौर नईदुनिया में प्रकाशित हो चुकी कथा रही है । किन्तु मेरा निवेदन मात्र इतना ही है कि इस ब्लाग पर मेरी अधिकांश सामग्री कहीं न कहीं से पढी हुई ही आप पाएँगे । मुझे दुःख है कि सूश्री कविताजी का सन्दर्भ मेरी जानकारी में नहीं आ पाया और इसी कारण लेखक के रुप में उनके नाम का इजहार यहाँ होना छूट गया जबकि पूर्व की कई पोस्ट में आप इस प्रकार की अधिकांश पोस्ट के अन्त में सन्दर्भ नाम देख सकते हैं । क्षमायाचना के साथ मैं इस पोस्ट को इस ब्लाग पर से तत्काल हटा रहा हूँ । इस सन्दर्भ में किसी भी ब्लागर के मानसिक संताप के लिये मैं विनम्रतापूर्वक पुनः क्षमा चाहता हूँ ।

    ReplyDelete
  16. सुशील जी , स्वरचित रचना ब्लॉग पर डालें तो सार्थक लेखन कहलायेगा । कहीं से टीप कर देना है तो पूरा क्रेडिट मूल लेखक को ही देना चाहिए ।

    ReplyDelete
  17. सुशील जी

    बिना नाम लिखे रचना को लिखना तो चोरी ही कहलाएगा... किसी और का लेख लिखने समय उसको सूचित किया जाना भी ज़रुरी है... और अगर लेखक को एतराज़ हो तो लिखा नहीं जाना चाहिए... क्योंकि वाहन कविता जी का नाम नहीं लिखा था, इसलिए मुझे भी लगा कि आपने ही लिखा है... चलिए अभी वही टिपण्णी यहाँ कविता जी को भी लिख देता हूँ, क्योंकि इस टिप्पणी पर उनका हक है.

    "हा हा हा... बहुत ही करार मारा आपने... बड़ी-बड़ी बातें करना आसान है, ज़रूरत उस पर अमल करने की है."

    प्रेम रस

    ReplyDelete
  18. aaj ke samaj ke dogale pan ko prastut kati huee jabardast kahani.

    ReplyDelete
  19. सुशील जी का स्पस्टीकरण गले से उतरता नहीं...शर्मनाक स्तिथि..

    ReplyDelete
  20. यही तो...जब तक महैलायें अपने पति-बच्चों व स्वयं को अधिक धन-मोह से अलग नहीं करतीं ...कुछ नहीं होगा...

    ReplyDelete

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

Popular posts from this blog

युवा पीढी के बारे में एक विचार

कौन कहता है आंदोलन सफल नहीं होते ?

अब हमारी बारी