सजा

खता जो तुमने की,
सजा क्यूँ हमको दी...
चुप से सह लेते हम सजा भी।
फिर क्यूं तुमने शिकायत की ,
सह लेंगे सभी शिकवे भी
पर जो सजा तुमने खुद को दी
सह न सकेंगे ........

Comments

  1. सह लेंगे सभी शिकवे भी
    पर जो सजा तुमने खुद को दी
    सह न सकेंगे ........

    प्रेम की इन्तहा...बहुत सुन्दर अहसास और उनकी अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  2. हा हा हा इसे प्यार कहते हैं. प्यार यानि अपनों की खुशी,अपनों के लिए जीना फिर....वो दुखी हो कैसे सहन हो सकता है भला?
    यही तो है न् इस कविता में?
    मेरे लिए प्यार ईश्वर है इसीलिए इस शब्द का ज़िक्र भर मुझे डूबा देता है किसी रचना में और.....मैं डूब गई इन चार पंक्तियों में.
    प्यार
    इंदु

    ReplyDelete

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

Popular posts from this blog

युवा पीढी के बारे में एक विचार

कौन कहता है आंदोलन सफल नहीं होते ?

उपन्यास काँच के शामियाने (समीक्षा )