सिलसिला

हम हंस हंस के भुलाते गए उनकी ख़ताओं को
और उन्होंने हमें ही कसूरवार ठहरा दिया.....
ख़ताओं का इल्जाम ही क्या कम न था
जो सरे आम हमें रुसवा किया।
जो तुम को हो सुकून तो हम क्या गिला करे
आओ फिर ख़ताओं का सिलसिला शुरू करे....

Comments

  1. वाह! बहुत बढिया।
    खताओं के सिलसिले के सहारे सिलसिला शुरु हो खताओं का।
    हा हा हा

    ReplyDelete
  2. कविताओं का सुन्दर सिलसिला... बहुत उम्दा...

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब...ठीक है खताओं का सिलसिला फिर शुरू करें. बहुत भावपूर्ण

    ReplyDelete
  4. हम हंस हंस के भुलाते गए उनकी ख़ताओं को
    और उन्होंने हमें ही कसूरवार ठहरा दिया.....
    ekdam theek baat...kayee baar yahi hota hai.

    ReplyDelete
  5. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  6. कविताओं का सुन्दर सिलसिला

    ReplyDelete
  7. खताऑ के सिलसिले जो एक बहाना दे बात करने का तो.....मैं तो जिंदगी भर खताए करने को ईश्वर का दिया तौहफा मानू .हा हा हा
    छोटी सी पर दिल को छू जाने वाली बात की है इन चंद पंक्तियों में.
    प्यार

    ReplyDelete

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

Popular posts from this blog

युवा पीढी के बारे में एक विचार

कौन कहता है आंदोलन सफल नहीं होते ?

उपन्यास काँच के शामियाने (समीक्षा )