पत्रिका में ब्लॉग चर्चा

Comments

  1. कविता जी आप तो चिट्ठियों पर मेहरबान हैं. आपके ब्लॉग पर चिट्ठी से जुडी यादें रोज ताजा हो रही हैं. आपकी चिट्ठियों में रिश्तों की सोंधी खुशबू है, जो भीना-भीना अहसास दे जाती है. अब आपकी चिट्ठियाँ डाकिया बाबू नहीं बांचे तो भला कौन बांचेगा. तो आप भी अपनी इन सभी चिट्ठियों को "डाकिया डाक लाया" ब्लॉग पर देखें और चिट्ठियाँ लिखती रहें, ताकि हम उन्हें पहुंचाते रहें.

    ReplyDelete
  2. thank you dakiya baabu jis tarah sabhi ka response in chiththiyon ke liye mila hai mujhe lagata hai mera likhana sarthak raha.

    ReplyDelete

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

Popular posts from this blog

युवा पीढी के बारे में एक विचार

कौन कहता है आंदोलन सफल नहीं होते ?

उपन्यास काँच के शामियाने (समीक्षा )