मुस्कान से मुस्कान तक

गुलाब की पंखुरियों से होंठों पर
नन्ही किरण सी वह मुस्कान 
आई थी जन्म के साथ 
जन्म भर साथ रहने को.

अपनी मासूमियत के साथ 
बढ़ती रही वह मुस्कान 
पल पल खिलखिलाते इठलाती रही 
होंठों से आँखों तक 
ओर पहुंचती रही दिल तक.

समय के उतार चढ़ावों में 
सिमटती रही करती रही संघर्ष 
किसी तरह बचाने अपना अस्तित्व 

उम्र के तमाम पड़ावों पर 
यूं तो कभी ना छोड़ा साथ 
लेकिन भूली बिसरी किसी सखी ने 
याद किया कुछ इस तरह 
'वह 'जो बहुत हंसती थी 
अब वही चहरे ओर नाम के साथ 
पहचान नहीं आती. 

 पोपले मुंह ओर बिसरती याददाश्त के साथ 
फिर आ बैठी है अपने पुराने ठिकाने पर 
अपने उसी मासूमियत को पाने में 
तमाम उम्र गंवाकर. 

Comments

  1. 'वह 'जो बहुत हंसती थी
    अब वही चहरे ओर नाम के साथ
    पहचान नहीं आती.
    बेहतरीन भाव पुर्ण बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,लाजबाब प्रस्तुति,....

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....
    RECENT POST...फुहार....: रूप तुम्हारा...

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति । आभार ।।

    ReplyDelete
  3. आदरणीया कविता जी हार्दिक अभिवादन
    गुलाब की पंखुरियों से होंठों पर
    नन्ही किरण सी वह मुस्कान
    -----बहुत सुन्दर पंक्तियाँ ..इसी का नाम है जिन्दगी !!!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर भावभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. बहुत ही अनुपम भाव संयोजन लिए हुए उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर

    अपनी मासूमियत के साथ
    बढ़ती रही वह मुस्कान
    पल पल खिलखिलाते इठलाती रही
    होंठों से आँखों तक
    ओर पहुंचती रही दिल तक.

    क्या कहने
    वाह

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अनुपम भाव लिए सुंदर रचना....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  8. अंजाम दिखा दिया...आपने...

    ReplyDelete

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

Popular posts from this blog

युवा पीढी के बारे में एक विचार

कौन कहता है आंदोलन सफल नहीं होते ?

उपन्यास काँच के शामियाने (समीक्षा )