ढूंढता हूँ में उसे

यादों की गलियों में   
 पीछे जाते हुए  
 पहुँच जाता हूँ उस गेट पर     
जिसके उस पार हाथ हिलाते   
माँ ने मेरा हाथ 
थमा दिया था किसी हाथ में    
देख उस अजनबी चहरे     
माँ की डबडबाई आँखें    
वो बिछड़ने और अकेलेपन का एहसास    
धुंधला रास्ता ,कमरे और चहरे   
वो डर    


एक कोमल स्पर्श 
एक मीठी आवाज़ 
जब उसने कहा था    
रोओं मत में हूँ ना   
झपकाकर डबडबाती आँखें  
साफ होती वह सूरत 
 मुस्कराती आँखों में 
मेरा डर खो गया    


आज बरसों बाद   
नहीं याद आ रहा वह चेहरा    
वह नाम वो आँखें    
लेकिन जब भी उदास 
अकेला  होता हूँ में    
होते है सभी अपने आस पास 
हर संबल हर सांत्वना  में    
वह स्पर्श ढूंढता हूँ  
सुनना चाहता हूँ  
वही मीठी आवाज़ 
रोओं मत में हूँ ना ! 

Comments

  1. बहुत कोमल कविता ....कई बार कुछ यादें जीवन भर की धरोहर बन जाती हैं....

    ReplyDelete
  2. हर संबल हर सांत्वना में
    वह स्पर्श ढूंढता हूँ
    सुनना चाहता हूँ
    वही मीठी आवाज़

    kahin andar tak chhuu gayeee...:)

    ReplyDelete
  3. होते है सभी अपने आस पास
    हर संबल हर सांत्वना में
    वह स्पर्श ढूंढता हूँ
    सुनना चाहता हूँ
    वही मीठी आवाज़
    रोओं मत में हूँ ना !

    सुन्दर और भावमयी रचना

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना बाधाई

    ReplyDelete
  5. स्पर्श से मिला संबंल जीवन आधार बन गया।

    ReplyDelete
  6. मुश्किल के पल में...बस एक संबल काफी है...चाहे वो कहीं से मिले...

    ReplyDelete
  7. kavitaa ji maa ही to है jo santaan की har isare ko samajhati है , बहुत sundar bhaav bhini !

    ReplyDelete
  8. स्पर्श की भी सिर्फ यादें ही रह जाती हैं पर अगर वो यादें मजबूत हो तो इंसान को उठाने में कामयाब होती हैं..

    परवरिश पर आपके विचारों का इंतज़ार है..
    आभार

    ReplyDelete
  9. बहुत कोमल अहसास..कभी एक स्पर्श भी ज़िंदगी का यादगार पल बन जाता है, जिसे भुलाना मुश्किल होता है..बहुत भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  10. सुन्दर और भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  11. "हर संबल हर सांत्वना में
    वह स्पर्श ढूंढता हूँ
    सुनना चाहता हूँ
    वही मीठी आवाज़
    रोओं मत में हूँ ना !"
    मिलन और जुदाई के बीच किसी अपने के साथ को रेखांकित करती यह रचना मनःस्थिति की अद्भुत अभिव्यक्ति है.

    ReplyDelete
  12. बहुत कोमल अहसास.....!

    ReplyDelete
  13. Wah, Kavita, very emotional. Every person, who is sensitized, feels exactly in such way. I was lsot in my own memories. So, nice.

    ReplyDelete

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

Popular posts from this blog

युवा पीढी के बारे में एक विचार

कौन कहता है आंदोलन सफल नहीं होते ?

उपन्यास काँच के शामियाने (समीक्षा )