Monday, April 21, 2014

"परछाइयों के उजाले " का लोकार्पण

मेरी पुस्तक "परछाइयों के उजाले " का लोकार्पण


4 comments:

  1. सभी को बधाई एवम शुभकामनाऐं ।

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  3. कविता तुम्हारा इंतज़ार खत्म हुआ ...सुखद परिणाम अब तुम्हारे हाथो में है

    ReplyDelete
  4. बहुत-बहुत बधाईयाँ...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

आँखों की गुस्ताखियाँ

बात सन 87 की है। पंजाब के बाद इंदिरा जी की हत्या और उसके बाद दिल्ली पंजाब और आसपास का इलाका बेहद अस्थिर दौर से गुजर रहा था। उसी समय हमारा व...