छोटी कहानियाँ


कुछ छोटी छोटी कहानियाँ जो अपने आप में बहुत गहरे अर्थ समेटे हुए हैं ....

छुपम छई खेलते  वह उसे ढूँढने के लिए आवाज़ देती और वह उसका जवाब, और पकड़ा जाता। उसके दोस्त उसकी बेवकूफी पर बहुत हँसते। 
एक बार उसने उसकी पुकार का कोई जवाब नहीं दिया और वह उसे ढूँढते ढूँढते खुद खो गयी।  
                                         * * * 
बिना प्यार के इस दुनिया में कुछ नहीं । तुमने मुझे प्यार करना सिखा दिया। पत्नी की आँखों में डूबते हुए उसने कहा। 
बाहर आँगन में बूढी माँ अकेली पड़ी खाँस रही थी। 
                                        * * * 
तुम रोज़ पेन पेंसिल,पुस्तक माँगते हो खुद की क्यों नहीं लाते?उसने झुंझलाते हुए कहा। 
हौले से मुस्कुरा कर उसने पेंसिल ले ली और अपना पेंसिल बॉक्स चुपके से दोस्त को दे दिया। 
                                       * * *
कक्षा से सबके जाने के बाद उसने उसका नाम ब्लेक बोर्ड पर लिख कर दिखाया।
यह उसके पहले प्यार का पहला इज़हार था। 
                                       * * * 
ये दिखाने के लिए कि उसकी कोई परवाह नहीं ,उसने उसे देखते ही मुंह फेर लिया। 
और उसने ये सोच कर लम्बी सांस भरी कम से कम वह अब तक पहचानता तो है। 
                                       * * * 
वह बहुत बदल गया है उसके हाव भाव, बात करने का तरीका, उसका  अंदाज़ उसके दोस्त उसकी पहचान सब कुछ,
लेकिन फिर भी उसकी आँखे वैसी की वैसी क्यों हैं ????
                                      * * * 
बेहतर है तुम मुझे भूल जाओ मैंने तुम्हे अपनी जिंदगी से निकाल दिया है। 
ओह ये अचानक बादल क्यों बरस पड़े? 
                                      * * * 

प्यार जब हद से ज्यादा बढ़ जाये तो क्या बोझ हो जाता है? उसने कोई जवाब नहीं दिया। 
आज जाने से पहले उसने कहा में बहुत हल्का महसूस कर रहा हूँ।उसे जवाब मिल गया। 
                                             * * *
अच्छा बताओ दुःख का रंग गहरा होता है या उदासी का? 

जब अपनों का साथ न हो उस समय आयी ख़ुशी का रंग सबसे स्याह होता है .

उसने कहीं दूर देखते हुए जवाब दिया
                                                                  * * * 

Comments

  1. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (16-3-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  2. संवेदनशील और गहरे अर्थ समेटे सुंदर कहानियाँ. प्यार के छोटे छोटे अहसास बहुत कुछ कह जाते हैं, बिना कुछ कहे भी.

    ReplyDelete
  3. सर्थक अर्थ लिए सुन्दर अहसास..

    ReplyDelete
  4. bahut hi gahre bhaw ......real .....

    ReplyDelete
  5. gahan bhav aur anubhution se bhari sundar prastuti

    ReplyDelete
  6. कुछ पंक्तियों में ही गज़ब की मारक क्षमता है . देखन में छोटे लगे घाव करे गंभीर !

    ReplyDelete
  7. बहुत सार्थक संदेस लिए सुन्दर कहानियां.

    ReplyDelete
  8. वाह, कमाल की कहानियां

    ReplyDelete
  9. कुछ शब्दों में पूरी कहानी आँखों के सामने घूमने लगती है...बहुत सुन्दर और सार्थक लघु कथाएं...

    ReplyDelete
  10. बहुत सार्थक सन्देश से भरी लघु कृतियाँ ...

    ReplyDelete
  11. उपयोगी रचना ...
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. हर कथन में गहन अर्थ छुपा है ,उम्दा प्रस्तुति, आप भी मेरेr ब्लॉग का अनुशरण करें, ख़ुशी होगी
    latest postऋण उतार!

    ReplyDelete
  14. एक से एक सुन्दर कहानियाँ।

    ReplyDelete
  15. lovely read...
    short but big in message

    ReplyDelete
  16. जीवन से गहरे जुड़ी बहुत अच्छी लघु कथाएँ. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  17. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है के आपकी यह विशेष रचना को आदर प्रदान करने हेतु हमने इसे आज के (दिनांक २५ अप्रैल २०१३, बृहस्पतिवार) ब्लॉग बुलेटिन - डर लगता है पर स्थान दिया है | बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

Popular posts from this blog

युवा पीढी के बारे में एक विचार

कौन कहता है आंदोलन सफल नहीं होते ?

अब हमारी बारी