Friday, December 14, 2012

क्षणिकाएं


आज एक सहेली के आग्रह पर स्कूल के नाटक के लिए कुछ लाइन लिखी थी।।


लड़कियों की शिक्षा 

बेटियां भी है आपकी बगिया की फुलवार 
उन्हें भी है पनपने का पूरा अधिकार। 
उचित देखभाल,भोजन और पढाई 
लड़कियों की उन्नति से ही 
दोनों घरों में खुशहाली है छाई।। 

भ्रूण हत्या 

बाबा मैं भी हूँ तुम्हारा ही अंश 
मानों तो चलाऊँगी तुम्हारा ही वंश। 
करुँगी जग में रोशन नाम तुम्हारा 
न रोको  इस दुनिया में आने से 
पाने दो मुझे भी प्यार तुम्हारा।।


दहेज़ 

ना तौलो मान मेरा सोने-चांदी से 
बड़ी आस से आयी हूँ अपना नैहर छोड़ के। 
अपना लो मुझे अपनी बेटी समझ के
पा जाऊं तुममे मेरे माँ-बाबा प्यारे से। 
बन जाये फिर इक संसार प्यारा प्यारा 
जो हो कीमती हर इक दहेज़ से। 

बाल विवाह 

बचपन के झूले, गुड़ियों के खेल, 
अम्मा की गोदी, सखियों का मेल, 
भाई का प्यार, बाबा  का दुलार, 
सुख की नींद, भोला संसार, 
न छीनो मुझसे करके बचपन में ब्याह 
अम्मा ये है मेरी छोटी सी चाह।। 

20 comments:

  1. बालिका शिक्षा , भ्रूण हत्या , दहेज़ और बाल विवाह को सजीव कराती रचना ..

    ReplyDelete
  2. sabhi rachnayen behtareen hain...!

    ReplyDelete
  3. सभी रचनाओं का बहुत उम्दा सृजन,,,, बधाई।

    recent post हमको रखवालो ने लूटा

    ReplyDelete
  4. सुन्दर सार्थक सृजन... हर क्षणिका लाज़वाब है कविता जी...

    ReplyDelete
  5. भ्रूण हत्या से घिनौना ,
    पाप क्या कर पाओगे !
    नन्ही बच्ची क़त्ल करके ,
    ऐश क्या ले पाओगे !
    जब हंसोगे, कान में गूंजेंगी,उसकी सिसकियाँ !
    एक गुडिया मार कहते हो कि, हम इंसान हैं !

    ReplyDelete
  6. बेहद सशक्‍त भाव लिये हर क्षणिका ... उत्‍कृष्‍ट लेखन

    ReplyDelete
  7. सार्थक क्षणिकाएँ

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया और यथार्थ के करीब

    ReplyDelete
  9. बहुत ही चिंताजनक विषयों को केंद्रित कर सुंदर क्षणिकाएँ रची है. उत्कृष्ट लेखन के लिये बधाई.

    ReplyDelete
  10. आपकी समसामयिक रचनाये बहुत प्यारी लगी ......

    ReplyDelete
  11. विषय को सजीव किया है कुछ ही शब्दों में ... इन क्षणिकाओं के माध्यम से ...

    ReplyDelete
  12. sarthak rachna...
    bahut hi dil ko chhune wali...

    ReplyDelete
  13. बहुत लाज़वाब क्षणिकाएं...काश यह सभी समझ सकें...

    ReplyDelete
  14. बहुत प्रभावी क्षणिकाएं...नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  15. कविता जी नव वर्ष की आपको हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  16. सभी महत्वपूर्ण विषयों को छुआ आपने
    कादम्बिनी जनवरी अंक में आपकी कविता भी अच्छी लगी

    ReplyDelete
  17. सार्थक रचनाएँ...
    बहुत बढ़ियाँ...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

दो लघुकथाएँ

जिम्मेदारी  "मम्मी जी यह लीजिये आपका दूध निधि ने अपने सास के कमरे में आते हुए कहा तो सुमित्रा का दिल जोर जोर से धकधक करने लगा। आज वे...