Saturday, December 8, 2012

गर्भनाल पत्रिका के दिसंबर 2012..73अंक में मेरा आलेख पेज नंबर 16

http://www.garbhanal.com/Garbhanal%2073.pdf




14 comments:

  1. behatarin jankari aur BEBAKPAN AAPAKA MAN BHA GAYA .

    ReplyDelete
  2. आपके लेखन का अंदाज बहुत सुंदर है और विषय पर मजबूत पकड़ भी.

    बधाई.

    ReplyDelete
  3. बहुत-बहुत बधाई...
    शुभकामनाएँ...
    :-)

    ReplyDelete
  4. हार्दिक बधाई..

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

वह अनजान औरत

पार्क में सन्नाटा भरता जा रहा था मैं अब अपनी समस्त शक्ति को श्रवणेन्द्रियों की ओर मोड़ कर उनकी बातचीत सुनने का प्रयत्न करने लगा। पार्क...