Thursday, December 13, 2012

पर्यावरण पर मेरी एक पोस्ट यहाँ भी ...
http://www.parikalpnaa.com/2012/12/3_11.html

http://alpanadeshpande.blogspot.in/2011/04/blog-post_15.html

1 comment:

  1. परिकल्पना उत्सव में चयन के लिए बधाई।,,,कविता जी,

    recent post हमको रखवालो ने लूटा

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

संवेदना तो ठीक है पर जिम्मेदारी भी तो तय हो

इतिहास गवाह है कि जब भी कोई संघर्ष होता है हमारी संवेदना हमेशा उस पक्ष के लिए होती हैं जो कमजोर है ऐसा हमारे संस्कारों संस्कृति के कारण ...