Thursday, January 19, 2012

याद


गली के मुहाने पर
 बंद सा एक मकान 
अपनी खामोश उदासियों 
में भीगा सा 
जाने क्यूँ पुकारता रहा मुझे 
बरसों पहले 
उसके बंद कपाटों से 
आती महक 
तेरा जिक्र होते ही 
फिर छा गयी .

17 comments:

  1. ओह ये यादें भी पीछा नहीं छोडतीं

    ReplyDelete
  2. कविता जी ! इस याद को बार - बार पढ़ा और मन में एक हलचल सी रही ! बंद कपाट , महक और वर्षों पहले , सब कुछ उद्वेलित कर दे रहा है !

    ReplyDelete
  3. अच्छी कविता,
    बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  4. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  6. वाह बेहतरीन अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  7. यादों की ख़ुश्बू...

    ReplyDelete
  8. कल 23/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  9. यादों की महक...
    बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  10. यादो का सुहाना सफर

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन !

    यादों की ये महक जीवन भर उस कसक को बनाए रखती है।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

दो लघुकथाएँ

जिम्मेदारी  "मम्मी जी यह लीजिये आपका दूध निधि ने अपने सास के कमरे में आते हुए कहा तो सुमित्रा का दिल जोर जोर से धकधक करने लगा। आज वे...