Monday, January 1, 2018

नया बनाम पुराने का अंत
साल 2017 चला गया समाप्त हुआ पूरी दुनिया में जश्न मना। जश्न मना उसके बाद आने वाले नये साल का। हालांकि नये साल के गर्भ में क्या है कोई नहीं जानता। बस एक आस होती है कि कुछ सुखद कुछ सुकून दायक होगा लेकिन हर जाने वाली चीजों के बाद आने वाली चीजें ऐसी ही सुखद नहीं होती।
रीगल चौराहे पर मुख्य सड़क से थोड़ा अंदर एक चाय की गुमटी है जहाँ अकसर साहित्यिक गोष्ठी के बाद चाय पीने जाते हैं। उसी गुमटी में एक छोटा सा कमरा है पता नहीं क्या है उस कमरे में कभी झांक कर नहीं देखा। उस दिन वहाँ एक बुजुर्ग व्यक्ति भी थे। मंझोला कद अनुभवों के रंग से रंगी दाढ़ी कुर्ता पायजामा पहने और चेहरे पर मुस्कान लिये वहां घूम रहे थे। किसी ने उन्हें पहचाना और सभी से परिचय कराया। वे अपने समय के सक्षम चित्रकार पचास वर्षीय श्री किशन राव जी थे।
एक जमाने में पोस्टर चित्रकार की विशिष्ट पूछ परख होती थी। किसी फिल्म की रिलीज के पहले किसी के जन्मदिन पर या किसी अवसर विशेष पर इन लोगों के पास सिर उठाने का समय नहीं होता था। उनके बनाए महान हस्तियों के पोट्रेट रेखाचित्र अभी भी वहाँ रखे थे।
फिर वक्त बदला नई तकनीक आई और उसने पुराने को अलविदा करने के साथ ही किसी का वक्त भी खत्म कर दिया।
कविता वर्मा






1 comment:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (03-01-2018) को "2017. तुमसे कोई शिकायत नहीं" (चर्चा अंक-2837)

    पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    नववर्ष 2018 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

समीक्षा किसी और देश में

विनय कुमार जी से पहचान फेसबुक के माध्यम से ही हुई। उनके बनाये लघुकथा समूह नया लेखन नए दस्तख़त ने लघुकथा की बारीकियां सिखाई तो नियमित लिखना ...