उसके जाने के बाद.....

सूरज की चमक हो गयी फीकी,
पंछियों ने चहकना छोड़ दिया,
अधखुली अँखियाँ जो देखती थी
हथेलियों पर उसका नाम,
सिर्फ लकीरें नज़र आती है अब
उसके जाने के बाद...

दिन भर की गहमागहमी में ,
हसरत थी एक आहट की,
एक सन्देश जो लाता था ,
उमंगें ,गुनगुनी सी शरारतें,मुस्कुराहटें,
अब मोबाइल ने चुप्पी साध ली ,
उसके जाने के बाद.....

शाम होते ही वो मिलने की ललक
सुबह से होने लगे इंतजार शाम का
कब शाम गहराकर हो गयी रात
और भीगता रहा तकिया,
अगली स्याह सुबह तक,
उसके जाने के बाद.....


उसने कहा खुश रहो,
मैंने माना उसका हर कहा,
मुस्कुराह्ते बदल गयीं है खिलखिलाहटों में
कुछ गम सिर्फ मुस्कुराने से नहीं छुपते

Comments

  1. कुछ गम सिर्फ मुस्कुराने से नहीं छुपते

    सच कहा ……………सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  2. achanak se sab kuch badal gaya hai jaise...
    uske jaane ke baad....

    ReplyDelete
  3. कविता जी पिछले एक वर्ष से हमारा परिचय है आपके ब्लॉग से .. लेकिन कभी आपके कवियत्री पक्ष से परिचय नहीं था.. आज आपकी कविता देख सुखद आशचर्य हो रहा है.. बहुत सुन्दर, भावमय और स्पंदित करने वाली कविता है... कविता जी का कविता की दुनिया में स्वागत है..

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी लगी यह कविता।

    ReplyDelete
  5. arunji sach me mein bhi hairan hu kaise ye ho gaya....aap sabhi ko achchhi lagi ye jan kar khushi hui...aage bhi likhane ka prayas karti rahungi....

    ReplyDelete
  6. कब शाम गहराकर हो गयी रात
    और भीगता रहा तकिया,
    अगली स्याह सुबह तक,
    उसके जाने के बाद.....

    बहुत सुन्दर ...भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  7. उसने कहा खुश रहो,
    मैंने माना उसका हर कहा,
    मुस्कुराह्ते बदल गयीं है खिलखिलाहटों में
    कुछ गम सिर्फ मुस्कुराने से नहीं छुपते
    ...
    par phir bhi hum muskurane ki koshish karte hain ...waah

    ReplyDelete
  8. aapki rachna pratidhwani vatvriksh ke liye chahiye...rasprabha@gmail.com per

    ReplyDelete
  9. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 14 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  10. कुछ गम सिर्फ मुस्कुराने से नहीं छुपते

    १००% सही कहा आपने .सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति.........मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

    ReplyDelete
  12. शाम होते ही वो मिलने की ललक
    सुबह से होने लगे इंतजार शाम का
    कब शाम गहराकर हो गयी रात
    और भीगता रहा तकिया,
    अगली स्याह सुबह तक,
    उसके जाने के बाद.....
    किसी के जाना आत्मा खींच ले जाता है ... गहरे जज़्बात की झलक है इस लाजवाब रचना में ..

    ReplyDelete
  13. शाम होते ही वो मिलने की ललक
    सुबह से होने लगे इंतजार शाम का
    कब शाम गहराकर हो गयी रात
    और भीगता रहा तकिया,
    अगली स्याह सुबह तक,
    उसके जाने के बाद.....

    बहुत ही भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत ही सच कहा है कुछ गम सिर्फ मुस्कुराने से नहीं छुपते ...

    ReplyDelete
  14. कुछ गम सिर्फ मुस्कुराने से नहीं छुपते.... sach hai.. bahut sunder!

    ReplyDelete
  15. कुछ गम सिर्फ मुस्कुराने से नहीं छुपते. बहुत सुन्दर, भावमय कविता

    ReplyDelete
  16. बहुत ही प्यारे एहसाह भरे है इस कविता में..दिल को छू लिए..... सुंदर प्रस्तुति .

    ReplyDelete

Post a Comment

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

Popular posts from this blog

युवा पीढी के बारे में एक विचार

कौन कहता है आंदोलन सफल नहीं होते ?

उपन्यास काँच के शामियाने (समीक्षा )