Sunday, March 13, 2011

तन्हाई










जब तन्हा होता हूँ में

निकल पड़ता हूँ यूँ ही कहीं

अपनी तन्हाई के साथ

किसी भीड़ भरे बाजार में

फेरी वालों की आवाज़ों के बीच

चीखती गाड़ियों के शोर में

किसी धुआं उड़ाते हुए झुण्ड

के पास से गुजरते हुए

उस उड़ते धुंए के साथ

दूर तक चला जाता हूँ में



किसी भीड़ भरे रेस्तरां में

कोने की ख़ाली मेज़ पर

यूं ही बैठे शीशे के उस पार

भागती दौड़ती दुनिया को देखते

ख़ाली प्लेटों चम्मचों

संगीत की आवाज़ के साथ

कहीं ठहर जाता हूँ में



पर नहीं जाता किसी निर्जन

समुद्र तट पर ,

पहाड़ी पर बने किसी सूने किले में

की मेरी तन्हाई होती है मेरे साथ

की डरता हूँ की इस एकांत में

मेरी तन्हाई न पूछ बैठे वो सवाल

जिससे बचने के लिए

भीड़ भरी जगहों पर जाता हूँ में .

22 comments:

  1. कई बार खुद को भुलाए रखना ही अच्छा लगता है ! बांटे भी कहाँ ....??
    सोंचने को मजबूर करती है यह रचना !
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. पर नहीं जाता किसी निर्जन

    समुद्र तट पर ,

    पहाड़ी पर बने किसी सूने किले में

    की मेरी तन्हाई होती है मेरे साथ

    की डरता हूँ की इस एकांत में

    मेरी तन्हाई न पूंछ बैठे वो सवाल

    जिससे बचने के लिए

    भीड़ भरी जगहों पर जाता हूँ में .

    जब कोई साथ नहीं देता तब तन्हाई साथ देती है.
    उससे डरना क्या ?
    we should be thankful to loneliness.

    ReplyDelete
  3. की डरता हूँ की इस एकांत में
    मेरी तन्हाई न पूंछ बैठे वो सवाल
    जिससे बचने के लिए
    भीड़ भरी जगहों पर जाता हूँ में ....

    सुन्दर कविता.. बेहद कोमल रचना और भाव !

    ReplyDelete
  4. bahut hi sanjida rachna,aise laga jaise kisi ne meri hi gatividhiyon ki picture bana di aur kavita ke rup me prastut kar diya i like it very much....thnx for visiting my blog and prasing it.
    congrts.

    ReplyDelete
  5. मेरी तन्हाई न पूंछ बैठे वो सवाल
    जिससे बचने के लिए
    भीड़ भरी जगहों पर जाता हूँ में
    तनहाई के सवालों से डर कर आपका छिपना अच्छा लगा , बधाई .

    ReplyDelete
  6. आज मैने कोने में ही बैठकर काफ़ी पी, क्योंकि दिन भर लेक्कचर दिए और सुने।
    कभी कभी तनहाई की भी जरुरत होती है।

    ReplyDelete
  7. मेरी तन्हाई न पूंछ बैठे वो सवाल
    जिससे बचने के लिए
    भीड़ भरी जगहों पर जाता हूँ में .
    तन्हाई वाकई में सबसे डरावनी होती है. दूसरों से भाग सकते हो, अपने से कैसे भागोगे. सुंदर कविता. बधाई.

    ReplyDelete
  8. की डरता हूँ की इस एकांत में
    मेरी तन्हाई न पूंछ बैठे वो सवाल
    जिससे बचने के लिए
    भीड़ भरी जगहों पर जाता हूँ में ....
    तन्हाई मे सवालों के सिवा रहता ही क्या है। भावमय रचना। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  9. पर नहीं जाता किसी निर्जन

    समुद्र तट पर ,

    पहाड़ी पर बने किसी सूने किले में

    की मेरी तन्हाई होती है मेरे साथ

    की डरता हूँ की इस एकांत में

    मेरी तन्हाई न पूंछ बैठे वो सवाल

    जिससे बचने के लिए

    भीड़ भरी जगहों पर जाता हूँ में .....

    khud se kab tak bhaga ja sakta hai . ekakipan ko mukhar karti rachna

    ReplyDelete
  10. बहुत ही उम्दा.



    डरता हूँ कि इस एकांत में

    मेरी तन्हाई न पूछ बैठे वो सवाल



    तन्हाई के सवाल और तनहा कर जाते हैं.

    भीड़ में भी सुनसान होता है ,

    और सुनसान में भी कोलाहल.
    सलाम.

    ReplyDelete
  11. तन्हाई में भी अक्सर इंसान तनहा नहीं रहता

    ReplyDelete
  12. aapne bahut hi acchi kavita likhi hai .. man me bas gayi hai , tanhayi ke waqt hamesha hi padunga ..

    --------------

    मेरी नयी कविता " तेरा नाम " पर आप का स्वागत है .
    आपसे निवेदन है की इस अवश्य पढ़िए और अपने कमेन्ट से इसे अनुग्रहित करे.
    """" इस कविता का लिंक है ::::
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/02/blog-post.html
    विजय

    ReplyDelete
  13. बहुत भावपूर्ण प्रस्तुति..होली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  14. सुन्दर कविता, बेहद कोमल रचना और भाव|

    ReplyDelete
  15. निकल पड़ता हूँ यूँ ही कहीं

    अपनी तन्हाई के साथ

    किसी भीड़ भरे बाजार में ...



    काव्य में छिपी तन्हाई की तड़प

    इन्ही चंद अलफ़ाज़ में

    ढूँढी जा सकती है

    भावनाओं का सटीक चित्रण ... !!

    ReplyDelete
  16. सुंदर कविता. बधाई.

    ReplyDelete
  17. कविताजी की कविता की अंतिम लाईने दिल को छू गई

    की डरता हूँ की इस एकांत में
    मेरी तन्हाई न पूंछ बैठे वो सवाल
    जिससे बचने के लिए
    भीड़ भरी जगहों पर जाता हूँ में .
    जब कोई साथ नहीं देता तब तन्हाई साथ देती है.
    उससे डरना क्या ?

    ReplyDelete
  18. कल 13/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  19. मेरी तन्हाई न पूछ बैठे वो सवाल
    जिससे बचने के लिए
    भीड़ भरी जगहों पर जाता हूँ में .

    बहुत बढ़िया ...

    ReplyDelete
  20. एक भावपूर्ण प्रस्तुति |
    बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  21. की डरता हूँ की इस एकांत में
    मेरी तन्हाई न पूछ बैठे वो सवाल....
    कितनी खूबसूरती से गुंथा है आपने खयालो को...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

संवेदना तो ठीक है पर जिम्मेदारी भी तो तय हो

इतिहास गवाह है कि जब भी कोई संघर्ष होता है हमारी संवेदना हमेशा उस पक्ष के लिए होती हैं जो कमजोर है ऐसा हमारे संस्कारों संस्कृति के कारण ...