Tuesday, April 6, 2021

मन में बसते रास्ते

 अपना घर छोड़कर जाना हमेशा एक अजीब सा अहसास देता है। बार बार रुक कर पीछे मुड़कर देखती हूँ कि उसे थोड़ा और अपने अंदर उतार लूँ थोड़ा सा और साथ ले जाऊँ लेकिन फिर भी बहुत कुछ पीछे छूट जाता है।

इस अहसास को सांत्वना देने के लिए या कहें कि इसे एक अवसर की तरह जीवन में कुछ और जोड़ने के लिए रास्ते मोड़ जंगल नदी पहाड़ पत्थर खेत पेड़ फूल फल को अपने भीतर उतारती चलती हूँ। भरती जाती है हर दृश्य को अपने अंतस में फिर चाहे वे खेत में काम करती गोबर के कंडे पाथती दरांता लेकर खेत पर जाती या सड़क किनारे बैठ कपड़े धोती स्त्रियाँ हों या सड़क किनारे खेलते बच्चे किसी छप्पर के नीचे बीड़ी फूंकते गेंहूँ निकालते भूसा ढोते पुरुष या कि गाँव की सड़कों पर बहती नालियाँ नलों का पानी गांव के बाहर कचरे के ढेर या सड़कों पर बने गढ्ढे। हर दृश्य उस जीवन से जोड़ता है जो आमतौर पर हम से बहुत दूर रहता है।

इसी दृश्य में एक और स्थान जुड़ता है वह है किसी छोटे से गांव में आहते से घिरा एक मंदिर जो हर बार आते-जाते रास्ते के एक पहचान चिन्ह के रूप में गुजर जाता है।

आज अचानक उस मंदिर के सामने गाड़ी रोकी। आधा बना आधा खुदा आहता जिसमें नक्काशी दार बलुआ पत्थरों से बना बडे़ से गुंबद को पत्थरों के खंभे पर उठाए एक प्राचीन हनुमान मंदिर। मंदिर के सामने गुंबद के नीचे बिछा हरी घास का कार्पेट बाहर के तापमान को रोक कर सुकून भरा अहसास दे रहा था। मंदिर में खड़े हनुमान जी की बड़ी सी प्रतिमा भक्तों को प्रेममयी दृष्टि से निहारती। आप देर तक टकटकी लगाए देखते रह सकते हैं।

इसी मंदिर परिसर में थोड़े अंदर एक और परिसर है जिसमें एक अति प्राचीन शिव मंदिर है। यह मंदिर अहिल्या बाई के शासनकाल या उससे पहले का हो सकता है। बडे-बडे पीपल के वृक्ष कलरव करती गौरैया छोटे पत्थर के खंभो पर टिका मंडप जिस पर कोई विशेष सज्जा न होते हुए भी वे आकर्षक थे। पीली मिट्टी जैसे रंग से पुते ये खंभे समय के थपेड़ों से अपनी नक्काशी की धार खो चुके फूल पत्तों से सजे थे। आधुनिक मंदिरों में ये साधारणता अब गायब हो चुकी है। महेश्वर में राजराजेश्वर मंदिर में कृत्रिम फूल पत्तों की सजावट और वंदनवार मंदिर की गरिमा को कम करते ही प्रतीत होते हैं। ऐसे में शिवलिंग पर सहज चढ़े फूल बेलपत्र कलश से बूँद बूँद टपकता पानी सामने एक छोटा सा नंदी और सिर झुका कर अंदर जाया जा सके इतना बड़ा द्वार।

मंदिर परिसर में रामायण की चौपाई के स्वर गूँज रहे थे। पता चला कि यहाँ लगभग चालीस पचास वर्षों से सतत रामायण पाठ हो रहा है। नजर घुमाई एक वृद्ध रामायण की चौपाई बोलते दिखे। उन्हें शायद रामायण कंठस्थ थी। बिना किसी लाउडस्पीकर और जल्दबाजी के चौपाई के शब्द वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा भर रहे थे। 

मंदिर में दर्शन करके कुछ देर वहीं बैठे प्रसाद लिया और बाहर आ गये। कुछ और देर हनुमान जी से भेंटने का मन हुआ तभी दाँयी ओर नजर पड़ी थोड़ा आगे जाकर देखा तो एक बावड़ी दिखी। आश्चर्य इस इलाके में बावड़ी मिलना बहुत सामान्य नहीं है। किनारे जाकर देखा काफी पानी था। एक छोटी पुरानी मोटर लगी थी। पानी साफ था और सीढियाँ भी साफ सुथरी थीं। मन प्रसन हो गया। थोड़ी देर वहाँ रुककर हम आगे बढ़ गये।

घर छोड़कर आने का मलाल खत्म हो जाता है जब ऐसे स्थानों के दर्शन हो जाते हैं जो आधुनिक दुनिया से दिखावे से दूर अपने सहज स्वरूप में हैं। 

1 comment:

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

ये इत्तेफाक है या कुछ और

 आप लोग इत्तेफाक में विश्वास रखते हैं या नहीं? अगर नहीं रखते तो इस किस्से को पढ़कर बताइये कि यह क्या है? अभी कुछ दिन पहले मैं पतिदेव की पोस्...