Monday, July 23, 2018

आँखों की गुस्ताखियाँ

बात सन 87 की है। पंजाब के बाद इंदिरा जी की हत्या और उसके बाद दिल्ली पंजाब और आसपास का इलाका बेहद अस्थिर दौर से गुजर रहा था। उसी समय हमारा वैष्णोदेवी श्रीनगर बद्रीनाथ केदारनाथ गंगोत्री और यमुनोत्री जाने का कार्यक्रम बना। लगभग एक महीने का टूर था मम्मी पापा दोनों भाई मैं हमारी फिएट कार से एक ड्राइवर को लेकर बैतूल से निकल पड़े।
ग्वालियर आनंद होते हुए दिल्ली पहुंचना था और एक परिचित ने बहुत जोर देकर कहा था कि आप वहाँ हमारी बहन के घर ही ठहरें। वह मोबाइल गूगल का जमाना नहीं था और एक कागज पर लिखा पता लेकर जब हम दिल्ली शहर में प्रविष्ट हुए तो माहौल भयावह था। सड़क के दोनों ओर दो पांच सौ मीटर की दूरी पर रेत की बोरियों के पीछे सैनिक मशीनगन लिये मोर्चा संभाले खड़े थे। सड़क पर पुलिस थी किसी भी गाड़ी को रुकने नहीं दिया जा रहा था और हमें तो जगह जगह रास्ता पूछना था।
कहीं पुलिस वालों से तो कहीं रास्ते चलते लोगों से रास्ता पूछते हम दिशा भ्रमित से चले जा रहे थे। सांझ घिर आई थी पीली रौशनी फेंकते हैलोजन माहौल को और भयावह सा बना रहे थे। हर कोई और आगे और आगे ही बताता जा रहा था। कहीं कोई पीसीओ भी नहीं दिख रहा था।
एक जगह अंदर जाती सड़क के किनारे खड़े चार पाँच लडकों से पापाजी ने रास्ता पूछा तो उन्होंने मेन रोड से अंदर जाती सड़क की ओर इशारा करते हुए वहाँ जाने को कहा। मैं पीछे खिड़की के पास बैठी थी और तभी मैंने उन लडकों को एक दूसरे को आंखों में इशारा करते और आंख मारते देखा।
ड्राइवर गाड़ी मोडता इससे पहले ही मैंने जोर देकर कहा "नहीं पापाजी मुझे कुछ ठीक नहीं लग रहा है आप मेन रोड मत छोडो और सीधे चलो किसी पुलिस वाले से रास्ता पूछेंगे।
पापाजी ने मेरी बात मान कर मेन रोड पर ही चलने का फैसला किया और आगे जाकर चौराहे पर खड़े पुलिस वालों से पता पूछा। वो लोग भी सही पता नहीं जानते थे तब उनसे पूछा कि पीछे कुछ लड़के अंदर की रोड पर बता रहे थे। तब वह बोला अंदर कहाँ साहब वहाँ तो कर्फ्यू लगा है देखते ही गोली मारने का आदेश दिया गया है।
दिल्ली के उन लडकों की आंखों की उस हरकत ने हमें बहुत बड़ी मुसीबत से बचा लिया था।

_________________
आंखें वाकई मासूम होती हैं और अपनी हरकतों से गाहे-बगाहे मासूमों को फंसने से बचा लेती हैं।
कविता वर्मा 

#कोरोना_कथा1

 कोरोना के उस वार्ड में एक दो या शायद तीन दिन कैसे बीते सिलसिलेवार कुछ भी याद नहीं है। कुछ छुटपुट बेतरतीब सी बातें गाहे-बगाहे याद आती भी हैं...