Monday, January 11, 2021

उन आठ दिनों की डायरी 6

 10 नवंबर 2020 

चार दिन बाद सुकून से नींद आई। सुबह जल्दी ही आँख खुल गई। हास्पिटल में सोशल मीडिया पर बात करते एक वैद्य का पता मिला था जिनकी बहुत तारीफ मेरी एक दोस्त ने की थी। मैंने फोन पर बात करके पूछा था कि क्या हार्ट प्राब्लम की दवा आयुर्वेद में है? उन्होंने आज बुलाया था। जाने के पहले जल्दी जल्दी घर के काम निपटाए। कोरोना के चलते अभी कोई हाउस हेल्प भी नहीं थी और अब तक पतिदेव जिन कामों में सहयोग दे देते थे वह भी कोई सहयोग नहीं कर पा रहे थे। साफ सफाई के साथ ही खाने की तैयारी पूरी की ताकि आते ही खाना बना सकूं। आयुर्वेद में नब्ज देखने का महत्व है इसलिए खाली पेट ही जाना था जबकि कुछ दवाएं जो चल रही थीं उन्हें नाश्ते के बाद ही लेना था। वैद्य जी से बात की तो उन्होंने कहा कि अन्न न खाएं कुछ और खाकर दवाइयाँ ले लें।

औषधालय घर से दूर था और मेन मार्केट में था जहाँ गाड़ी की पार्किंग मिलना मुश्किल था। हमने मेन मार्केट से दूर एक पार्किंग में गाड़ी खड़ी की और वहाँ से आटो करके औषधालय पहुँचे। नब्ज देखकर थोड़ी देर बातचीत करके और बहुत देर तक खुद की तारीफ करने के बाद दवाइयाँ दीं जिन्हें लेकर हम घर जाने के लिए निकले।

पतिदेव की गाड़ी अभी भी बाम्बे हास्पिटल में खड़ी थी जिसे लेने जाना था। वहाँ हुए कुछ टेस्ट की रिपोर्ट भी मिली नहीं थीं इसलिए लौटते में बाम्बे हास्पिटल गये। वहाँ देर तक इस डिपार्टमेंट से उस डिपार्टमेंट में घूमते रहे लेकिन कोई जिम्मेदारी से जवाब नहीं दे रहा था। अंततः एक व्यक्ति को कुछ तरस आया और उसने हस्तक्षेप किया और ईसीजी की रिपोर्ट और एक्सरे की रिपोर्ट दिलवाई लेकिन एक्सरे फिल्म नहीं मिली। 

इसी समय डाक्टर से मिले और अनायास मैंने पूछा वर्माजी गाड़ी चला सकते हैं? उन्होंने कहा असंभव। अब गाड़ी ले जाने का सवाल ही नहीं था हम घर आ गये। 

 काफी देर हो गई थी आते ही खाना बनाया और दोपहर में थोड़ी देर आराम किया।

शाम को पांच बजे मेदांता हास्पिटल के हार्ट सर्जन डॉ श्रीवास्तव से अपॉइंटमेंट था। उन्हें दिखाने के लिए एंजियोग्राफी की सीडी ले जाना था। हमने सीडी देखने के लिए लैपटॉप में चलाई लेकिन वह प्ले ही नहीं हो रही थी। बहुत कोशिश की लेकिन सफलता नहीं मिली। इसी वक्त पंजाब से भतीजे का फोन आया। वह साफ्टवेयर इंजीनियर है। जरूरी हालचाल बता कर उससे कहा कि यह सीडी कैसे चलेगी बताओ। सीडी डाउनलोड करके उसे भेजी। उसने थोड़ी देर देखा फिर फोन करके बताया कि क्या कैसे करना है। पांच बजने वाले थे फिर जल्दी से तैयार हुए हास्पिटल जाने के लिए। पतिदेव ने एक ड्राइवर बुलवा लिया था जो गाड़ी से हमें लेकर हास्पिटल पहुँचा।

वहाँ ओपीडी का रजिस्ट्रेशन करवाकर ऊपर गये तो डॉक्टर के असिस्टेंट ने कहा कि एक्सरे करवाइये। मरीज का कोरोना टेस्ट के लिए एक्सरे जरूरी है। बाम्बे हास्पिटल में तीन-चार एक्सरे हुए थे लेकिन सभी उन्होंने रख लिये थे। सिर्फ रिपोर्ट देखकर वे लोग मानने को तैयार ही नहीं थे। मैंने उनसे कहा कि आपके हाथ में पेपर्स हैं जो बता रहे हैं कि पेशेंट कल तक हास्पिटल में एडमिट थे और वह भी हार्ट प्राब्लम के लिए। सारी दवाइयाँ हार्ट प्राब्लम की हैं कोई भी कोरोना की दवा नहीं है। इसका यह अर्थ है कि पेशेंट को कोरोना नहीं है। आप मेरी बात न माने लेकिन आपके हाथ में जो पेपर्स हैं वह आपके प्रोफेशन के लोगों द्वारा बनाए गये हैं उनकी बात तो मानें। ये पेपर्स बाम्बे हास्पिटल के हैं कोई गली कूचे के छोटे से हास्पिटल के तो नहीं हैं।

मेरे तर्क ने उन्हें सोचने को मज़बूर किया और वे बिना एक्सरे डाक्टर को दिखाने पर सहमत हो गये। डाक्टर के केबिन में सीडी लैपटॉप पर लगा कर देखी जा चुकी थी। हम गये तब तक वे देख चुके थे। उनके सामने एक बड़ा सा शीशा लगा था। हम उनसे कम से कम आठ फीट दूर बैठे थे। शीशे के उस पार डाक्टर ने फेसशील्ड लगा रखी थी। देख कर हँसी भी आई कि इतने सब के बाद अगर कोरोना पेशेंट भी होगा तो उसके विषाणु कैसे डाक्टर तक पहुँचेंगे?

मजे की बात यह कि चेस्ट एक्सरे सिर्फ पेशेंट का होता जबकि अटेंडेंट यानि की मेरा नहीं होता और मैं भी उसी केबिन में बैठी थी।

डाॅ ने कुछ प्रश्न पूछे और बताया कि यह हाई रिस्क सर्जरी है और तुरंत करवाना चाहिये। साथ ही बताया कि वे अगले किन किन दिनों में आपरेशन कर सकते हैं। उसके बाद वे एक हफ्ते के लिए देश से बाहर जाने वाले थे।

मैंने उनसे पूछा कि अगर हम आठ दस या पंद्रह दिन रुकते हैं फिर आपरेशन करवाते हैं तो रिस्क फैक्टर क्या होंगे?

अगला अटैक मेजर हार्ट अटैक होगा।

इस बात ने तो जैसे साँस ही रोक दी।

यह अटैक हो सकता है अगले पांच दस या पंद्रह दिनों में आ जाये या शायद पाँच साल तक न आये कुछ कह नहीं सकते। 

सच ही था कैसे कहा जा सकता है कि शरीर के अंदर किसी अनजानी शक्ति से चलती मशीनरी कब क्या रंग दिखाएगी? 

किसे पता था कि आठ दिन पहले डेढ़ घंटे तक बैडमिंटन खेलने वाले व्यक्ति की तीनों आर्टरी सिकुड़ गई हैं और अब बायपास ही एकमात्र इलाज है। यह बात बेहद डरावनी थी। 

आप वेन्स का बायपास करेंगे या आर्टरी का यह पूछने पर डाक्टर अचानक चौंक गये । इतने टैक्नीकल प्रश्न की उम्मीद उन्हें नहीं थी लेकिन क्षणांश में उन्होंने खुद को संभाल लिया फिर बहुत धैर्य और शांति से बताया कि वैसे तो वेन्स का ट्रांसप्लांट भी कई मामलों में अच्छा रहता है। वह भी काफी समय चलता है लेकिन आर्टरी का ट्रांसप्लांट भी कर सकते हैं। इसमें दो आर्टरी चेस्ट से और एक हाथ से निकाली जायेगी।

हार्ट के आपरेशन के एक हफ्ते पहले खून को पतला करने वाली दवाइयाँ बंद कर दी जाती हैं लेकिन कभी-कभी जरूरी होता है तो एक दो दिन पहले बंद करके भी आपरेशन किया जा सकता है। आप लोग जैसा भी डिसाइड करें बता दें। अभी दीवाली आने वाली है वह सब आप लोग देखें हम तो दीवाली के दिन भी आपरेशन करते हैं। 

इसके बाद डाक्टर के असिस्टेंट ने हमें आपरेशन के कितने पहले एडमिट होना कितने दिन रहना कितना खर्च क्या प्रोसेस सभी कुछ बताया। वहाँ से बाहर निकले तो दिल में बड़ा असमंजस था।

ड्राइवर गाड़ी लेकर आ गया और हम वहाँ से निकल कर बाम्बे हास्पिटल गये। वहाँ मैंने अपनी गाड़ी ली और ड्राइवर ने पतिदेव की गाड़ी ली और हम घर आ गये ।

आज का पूरा दिन बेहद व्यस्त और पल पल मन के विचार बदलने वाला था। सुबह आयुर्वेद पर विश्वास कर मन में जो आशा बँधी थी वह शाम तक डाक्टर की सलाह और चेतावनी के बाद डगमगा गई थी।

दिन भर की भागदौड़ के बाद भी पतिदेव को कोई थकान कोई शिथिलता नहीं थी। यह देखकर भी लगा कि शायद हम लोग कुछ ज्यादा सीरियस हो रहे हैं ऐसी भी गंभीर बात नहीं है। 

घर आकर थोड़ा आराम किया खाना बनाया पापाजी को फोन किया और बताया कि डाक्टर ने क्या कहा है। अभी तो कुछ समझ नहीं आ रहा है आयुर्वेद की दवाइयां शुरू करते हैं फिर दीवाली के बाद ही आपरेशन का सोचेंगे मैंने कहा। पापाजी भी इससे संतुष्ट ही दिखे।

रात में खाना खाकर थोड़ी देर टीवी देखा फिर सो गये।

लगभग डेढ़ बजे नींद खुली देखा पतिदेव बाथरूम जा रहे हैं। मैंने पूछा मैं चलूँ तो बोले नहीं। वहाँ से काफी देर में वापस आये और फिर बिस्तर में बैठे रहे।

 क्या हुआ?

कुछ अजीब सा लग रहा है शायद पेट दर्द हो रहा है। 

गैस तो नहीं बन रही? 

समझ नहीं आ रहा है थोड़ा गर्म पानी दे दो गैस पास हो जायेगी। 

मैंने पानी गर्म करके लाकर दिया। उसे पीकर वे वज्रासन में बैठ गये लेकिन अजीब सा दर्द घबराहट हो रही थी। मैंने माथे पर हाथ फेरा यह क्या उन्हें ठंडा पसीना आ रहा था। ठंडा पसीना अगला मेजर अटैक डाक्टर की बात दिमाग में गूँज गई। 

पता नहीं क्या है यह ऐसे में टहलने को भी नहीं कह सकते और क्या करें यह भी समझ नहीं आ रहा है। गाड़ी निकालूं हास्पिटल ले चलूँ या एंबुलेंस को फोन करूँ। दिमाग कुछ सोच नहीं पा रहा था। कभी उन्हें पानी देती कभी माथे पर हाथ फेरती तो कभी हास्पिटल जाने का विचार करती पतिदेव से पूछती हास्पिटल चलें क्या और वे चुप। खुद ही नहीं समझ पा रहे थे क्या कहें क्या करें? ये अटैक का दर्द है या गैस का? 

लगभग पंद्रह बीस मिनट यह असमंजस रहा फिर उन्हें कुछ ठीक लगने लगा और वे सो गये। मैं देर तक जाग कर उनके माथे पर हाथ फेरकर देखती रही कभी उनकी साँसों की गति देखती सुनती रही। वे चैन से सो रहे थे जब यह आश्वस्ति हुई तब पता नहीं कब मेरी आँख लग गई। 

कविता वर्मा 
#बायपास #bypass #minor_attack 

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (13-01-2021) को "उत्तरायणी-लोहड़ी, देती है सन्देश"  (चर्चा अंक-3945)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हर्षोंल्लास के पर्व लोहड़ी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणियाँ हमारा उत्साह बढाती है।
सार्थक टिप्पणियों का सदा स्वागत रहेगा॥

#कोरोना_कथा1

 कोरोना के उस वार्ड में एक दो या शायद तीन दिन कैसे बीते सिलसिलेवार कुछ भी याद नहीं है। कुछ छुटपुट बेतरतीब सी बातें गाहे-बगाहे याद आती भी हैं...