Followers

Saturday, November 17, 2012

जिंदगी



जाने किसमे क्या 
तलाशती है जिंदगी 
एक अनबुझी प्यास सी जिंदगी 
प्यास में भी आस को 
तलाशती है जिंदगी। 

मिले जो राहों में 
ठिठक कर उनका 
साथ चाहती है जिंदगी 
चलते चार कदम साथ उनके 
उन्हें अपना सा ढालना 
चाहती है जिंदगी।

ढले जो मन के अक्स में 
उस पर इठलाती है जिंदगी 
फिर क्यों बदलने की 
शिकायत करती है जिंदगी 

बदलती राहों में 
साथ पुराना चाहती है जिंदगी 
फिर क्यों हर नयी राह  पर 
बदलाव चाहती है जिंदगी 

मेरा नया ब्लॉग  कहानी kahani 
http://kahanikahani27.blogspot.in/

हिन्दी में लिखिए

image

चेतावनी

"कासे कहूँ?"ब्लॉग के सारे लेखों पर अधिकार सुरक्षित हैं इस ब्लॉग की सामग्री को किसी भी अन्य ब्लॉग, समाचार पत्र, वेबसाईट पर प्रकाशित एवं प्रचारित करते वक्त लेखक का नाम एवं लिंक देना जरुरी हैं।

image

ब्लॉग4वार्ता पर आएं

ब्लॉग4वार्ता हिन्दी चिट्ठों का अनवरत प्रकाशित एक मात्र संकलक है। जहाँ आपको एक ही स्थान पर विभिन्न विषयों के उम्दा एवं बेहतरीन चिट्ठे पढने को मिलेगें। आपका हार्दिक स्वागत है।